shayari

Shayari: Enjoy Best Shayari in Hindi with me | शायरी हिंदी में

Enjoy Best Shayari in Hindi with me | शायरी हिंदी में

Shayari एक उर्दू word है. Shayari एक माध्यम है अपने विचारो को व्यक्त करने का,अपने feelings ko प्रकट करने का.  विचारो व्यक्त करने का यह एक अलग तरीका है.

Shayari  के माध्यम से जिंदगी को हम एक नजरिये से देखते है. इसलिए हम आपके लिए कुछ best shayari ले कर आए है. 

Let’s enjoy this Shayari  | हिंदी शायरी

 

shayari

अक्सर दोष देते है हवाओं को चराग बुझाने की

कभी कभी चराग भी जला लो तरीके से 

 

Aksar dosh dete hai hawaon ko

Kabhi Kabhi charag BHI jala lo tarike se

 

बदलते वक्त के साथ बदलना सीखो 

या फिर वक्त को बदल दो

बेबसी का रोना बंद करो 

हर हाल में आगे बढ़ना सीखो

 

Vakt ke Saath badlna sikho

Ya for vakt ko badal do

Bebasi Ka Rona band Karo

Har haal me aage badhna sikho

 

हमेशा सहारा मिले ऐसा नहीं होता

हर रास्ते को मंजिल मिले ऐसा भी नहीं होता

कुछ कश्तियां डूब जाती तूफानों से टकराकर

हर कश्ती को साहिल मिले ऐसा भी नहीं होता

 

Hamesha Sahara mile aisa Nahi Hota

Har rashte ko manjil mile aisa Bhi Nahi hota

Kuchh kashtiya doob jaati hai tufano se takrakar

Har kashti ko Sahil mile aisa Nahi hota

 

Shayari

 

shayari

जिंदगी की जरूरतों के खातिर अपनो से दूर है

अपने ही दूर हो जाए ये ख्वाहिश नहीं रहती

अक्सर मजबूरियां दूर करती है अपनों से

अपनों से दूर रहे ये ख्वाहिश नहीं होती

 

Zindagi ki jarurato ke khatir apno se door hai

Apne hi door ho Jaye ye khwahish Nahi rahti

Aksar majburiya door Karti hai apno se 

Apno se door rahe ye khwahish Nahi Hoti

 

वक्त के साथ बदलना मेरी फितरत नहीं

तुम्हे भूल जाऊं ऐसी मेरी हसरत नहीं

 

Vakt ke Saath badalna meri fitrat Nahi

Tumhe bhool jaoon aishi meri hashrat nahi

 

दिल के जो पास थे 

वो आज दिल से दूर हो गए

जिन्हे माना था अपना

वो आज मगरूर हो गए

 

Dil ke Jo pass the

Vo aaj Dil se door ho Gaye

Jinhe mana that apna

Vo aaj magroor ho gaye

 

बैठे है कुछ लोग इसी इंतेज़ार में 

बर्बाद ए जिंदगी होगी कब मेरी

पर वो भूल जाते है एक बात

उनकी हसरतें रह जाएंगी अधूरी

क्योंकि निगहबान है वो खुदा मेरी

 

Baithe hai kuchh log isi intejar me

Barbad e Zindagi hogi kab meri

Par wo bhool jate hai ek baat

Unki hasrate rah Jayengi adhuri

Kyonki nigehban hai vo khuda meri

 

कतारो में खड़े होकर समय गुजार दी एक रोटी के लिए

जब आई मेरी बारी तो फिर से तरस गया एक रोटी के लिए

 

Kataro me khade hokar samay gujar Di ek roti ke liye

 jab aayi meri baari to fir Taras Gaya ek roti ke liye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *